महामीडिया न्यूज सर्विस
50 करोड़ लोग 1 अप्रैल से ले सकेंगे राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का लाभ

50 करोड़ लोग 1 अप्रैल से ले सकेंगे राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का लाभ

Admin Chandel | पोस्ट किया गया 135 दिन 16 घंटे पूर्व
02/02/2018
नई दिल्ली (महामीडिया) सरकार ने बजट में 'आयुष्मान भारत' नाम से बड़ी फ्लैगशिप योजना को लॉन्च करने का ऐलान किया है। इसे परवान चढ़ाने के लिए नैशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम की घोषणा वित्त मंत्री अरुण जेटली ने की। दूसरे दिन शुक्रवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संवाददाताओं के साथ ओपन हाउस मीटिंग में एक सवाल के जवाब में राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के विभिन्न पहलुओं की जानकारी दी। वित्त मंत्री ने कहा कि नैशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम जिसे मोदी केयर भी कहा जा रहा है, ट्रस्ट मॉडल या इंश्योरेंस मॉडल पर काम करेगा। उन्होंने रीईंबर्स मॉडल की संभावना को यह कहते हुए खारिज कर दी कि इसमें बहुत गड़बड़ियां होती हैं। यानी, योजना का लाभ उठानेवाले गरीब मरीजों का इंश्योरेंस किया जाएगा और उनका कैशलेस इलाज किया जाएगा। पहले खुद के खर्चे से इलाज करवाकर सरकार से पांच लाख रुपये तक की रकम वापस पाने का झंझट नहीं होगा। 
ओपन हाउस में जेटली ने कहा कि नई योजना नए वित्त वर्ष के आगाज यानी 1 अप्रैल 2018 से लागू होगी। यानी, गरीब परिवारों के लोग 1 अप्रैल से 5 लाख रुपये तक का इलाज मुफ्त में करवा सकेंगे। योजना के तहत गरीब परिवार न केवल सरकारी बल्कि प्राइवेट अस्पतालों में भी इलाज करवा सकेगा। उन्होंने कहा कि चुनिंदा अस्पतालों में लोग कैशलेस इलाज करवा कर इस योजना का लाभ उठा सकेंगे। वित्त मंत्री जेटली ने बजट भाषण में स्पष्ट किया कि बाद में इस योजना का विस्तार कर देश की बाकी बची आबादी को भी इसके दायरे में लाया जा सकता है।  सरकार ने इसके लिए 2,000 करोड़ रुपये की रकम आवंटित की है। इसने गरीबी रेखा से नीचे के परिवारों के लिए 2008 में पेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा की जगह ली है जिसमें 30,000 रुपये का सालाना बीमा कवर दिया गया था। पूर्व केंद्रीय मंत्री के पूर्व सलाहकार डॉ. सुनील नंदराज ने 10 करोड़ परिवारों के हेल्थ इंश्योरेंस के प्रीमियम के लिहाज से 2,000 करोड़ रुपये का आवंटन को पर्याप्त बताया। हालांकि, जन स्वास्थ्य अभियान के नैशनल कन्वीनर अभय शुक्ला का कहना है कि अगर इस योजना का मकसद 50 करोड़ लोगों को लाभ देना है तो प्रति व्यक्ति प्रीमियम 40 रुपये पड़ेगा। जेटली ने बताया कि नीति आयोग ने इस योजना की परिकल्पना की है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र में जीवनभर काम करनेवालों ने उनके और फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने प्रजेंटेशन दिया था। जेटली ने कहा, उन्होंने यूनिवर्सल हेल्थकेयर स्कीम का प्रजेंटेशन दिया था। चूंकि इसकी लागत बहुत ज्यादा पड़ रही थी। इसलिए हमने सभी 25 करोड़ की जगह 10 करोड़ परिवारों से शुरुआत की ताकि योजना प्रभावी तौर पर लागू हो सके। बीजेपी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में सभी को हेल्थ कवर देने का वादा किया था, लेकिन करीब पौने चार साल बाद उसने इसे पूरा करने के लिए कदम उठाया है। विशेषज्ञों का मानना है कि चुनावी साल करीब होने के कारण सरकार इस योजना के तहत गरीबों के वोटों पर फोकस कर रही है। इस योजना को विशेषज्ञ खासा अहम बता रहे हैं, लेकिन इस पर अमल कैसे होगा, इसे लेकर शंकित भी हैं। 
'आयुष्मान भारत' के तहत दो स्कीमें 
1. नैशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम: देश के 10 करोड़ गरीब परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये तक का हेल्थ इंश्योरेंस कवर मुहैया कराना। अमेरिका में ओबामा केयर की तर्ज पर वित्त मंत्री जेटली ने नैशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम का ऐलान करते हुए इसे दुनिया का सबसे बड़ा हेल्थ केयर प्रोग्राम करार दिया। जेटली ने कहा कि इससे कम-से-कम 50 करोड़ लोगों को फायदा मिलेगा। स्कीम पर अमल के लिए पर्याप्त रकम मुहैया कराई जाएगी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत गरीब परिवारों को महज 30 हजार रुपये सालाना की कवरेज हासिल है। 
2. हेल्थ और वेलनेस सेंटर: देशभर में डेढ़ लाख से ज्यादा हेल्थ और वेलनेस सेंटर खोलना, जो जरूरी दवाएं और जांच सेवाएं फ्री में मुहैया कराएंगे। इन सेंटरों में गैर-संक्रामक बीमारियों और जच्चा-बच्चा की देखभाल भी होगी। इतना ही नहीं, इन सेंटरों में इलाज के साथ-साथ जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों, मसलन हाई ब्लड प्रेशर, डाइबिटीज और टेंशन पर नियंत्रण के लिए विशेष प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। सरकार ने इस मद में 1200 करोड़ रुपये का इंतजाम किया है। सरकार इन केंद्रों को चलाने के लिए कॉर्पोरेट का भी सहयोग चाहती है। 
देश में डॉक्टरों की कमी दूर करने के लिए 24 जिला अस्पतालों को अपग्रेड कर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल खोले जाएंगे। वित्त मंत्री ने कहा कि हर तीन संसदीय क्षेत्र में एक मेडिकल कॉलेज खोले जाएंगे। अभी देश में प्राइवेट और सरकारी मेडिकल कॉलेजों से हर साल 67 हजार एमबीबीएस और 31 हजार पोस्ट ग्रैजुएट (पीजी) डॉक्टर निकल रहे हैं। एम्स के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा था कि 130 करोड़ की आबादी वाले देश में इलाज के लिए डॉक्टरों की यह तादाद बहुत कम है। 
जेटली ने अपने बजट भाषण में कहा कि सरकार ने टीबी के रोगियों को हर महीने 500 रुपये देने का इंतजाम किया है, जिसके लिए 600 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। गौरतलब है कि सरकार ने 2025 तक देश से टीबी के खात्मे का लक्ष्य रखा है और इसके लिए कई योजनाएं शुरू की गई हैं। भारत दुनिया का ऐसा देश है, जहां चीन के बाद टीबी के सबसे ज्यादा मरीज हैं। यहां हर साल टीबी के करीब 28 लाख नए केस सामने आते हैं और करीब 5 लाख पेशंट्स की मौत हो जाती है। 
बजट में एचआईवी-एड्स पर काबू पाने और इसके इलाज के लिए 2100 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। पिछली बार यह राशि 2163 करोड़ रुपये थी। इस राशि में कमी किए जाने से विशेषज्ञ नाखुश हैं। इसी तरह परिवार कल्याण की योजनाओं के फंड में भी कमी की गई है। सरकार ने इस बार के बजट में सेहत के लिए कुल 52,800 करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया है। पिछली बार यह राशि 48,300 करोड़ रुपये थी। 
पॉप्युलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया की एग्जिक्युटिव डायरेक्टर पूनम मुटरेजा कहती हैं कि इससे जनसंख्या पर लगाम लगाने और परिवार कल्याण की अन्य योजनाएं चलाने में दिक्कत आएगी। बजट में दवाओं की क्वॉलिटी पर नजर रखने के लिए इस बार कोई आवंटन नहीं किया गया है। इस बार अंगदान को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने बड़ी पहल की है। पिछली बार जहां इस मद में 9 करोड़ रुपये दिए गए, वहीं इस बार इसके लिए 90 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। केंद्र सरकार स्वास्थ्य स्कीम के सदस्यों के इलाज के लिए पिछली बार 1654 करोड़ रुपये का इंतजाम किया गया था। इस बार इस राशि को कम करके 1558.86 करोड़ कर दिया गया है। इसी तरह कई और मदों में भी बजट में कमी या बढ़ोतरी की गई है। अगर बीजेपी इसे भुनाने में कामयाब रही तो अगले साल होने वाले आम चुनाव में काफी लंबी माइलेज हासिल कर सकती है। पिछले साल के मुकाबले 12 प्रतिशत वृद्धि के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय का पूरा बजट 56,226 करोड़ रुपये का हो गया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 में स्वास्थ्य पर खर्च को जीडीपी के 2.5 प्रतिशत तक लाने की बात कही थी, लेकिन यह लक्ष्य अभी दूर दिख रहा है क्योंकि अब तक जीडीपी का 1.2 प्रतिशत ही हेल्थ सेक्टर को मिला है। 
और ख़बरें >

समाचार

MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in