महामीडिया न्यूज सर्विस
भावातीत ध्यान के बिना 'शांति' संभव नहींः श्रीमती आर्या

भावातीत ध्यान के बिना 'शांति' संभव नहींः श्रीमती आर्या

admin | पोस्ट किया गया 194 दिन 7 घंटे पूर्व
12/03/2018
महर्षि संस्थान का नवनिर्मित आनंद निकेतन भवन में हुए इस कार्यक्रम में सौ से ज्यादा महर्षि संस्थान की महिला प्राचार्य, शिक्षिकाओं आदि ने भाग लिया। गुरू पूजन से आरंभ हुए कार्यक्रम में विश्व शांति आंदोलन की राष्ट्रीय संचार सचिव श्रीमती आर्या नंद कुमार ने 'शांति' के लिए भावातीत ध्यान ही सबसे अच्छा उपाय है, को लेकर अपने विचार रखे तो वहीं सहस्र शीर्षा देवी मंडल की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती रीता प्रकाशम ने महर्षि जी के ब्रह्म वाक्य "जीवन आनंद है, जीवन पूर्ण है" पर अपना उद्बोधन दिया। मंडल की जिला अध्यक्ष कला मोहन ने महिलाओं की सोच सकारात्मक बनाने पर अपने विचार रखे। उनका तर्क था कि सकारात्मक सोच से ही जीवन में आनंद और शांति की अनुभूति होती है।
कार्यक्रम में महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार के मनोरंजक खेलों का भी आयोजन किया गया जिनमें प्रथम, द्वितीय स्थान पर रहने वालों को पुरस्कृत किया गया। 
और ख़बरें >

समाचार