महामीडिया न्यूज सर्विस
गूगल ने डूडल बनाकर फारुख शेख के 70वें जन्मदिन पर दी श्रद्धांजलि

गूगल ने डूडल बनाकर फारुख शेख के 70वें जन्मदिन पर दी श्रद्धांजलि

admin | पोस्ट किया गया 544 दिन 11 घंटे पूर्व
25/03/2018
नई दिल्ली (महामीडिया) फारुख शेख के 70वें जन्मदिन पर गूगल ने उन्हें डूडल बनाकर श्रद्धांजलि दी है. एक ऐसे अभिनेता रहे जो पर्दे पर अभिनय नहीं करते थे, बल्कि उसे जीते थे. फारुख शेख को याद करें तो कभी आपके सामने 'चश्मे बद्दू' का किरदार सिद्धार्थ सामने आ जाएगा, तो कभी नवाबी अंदाज में 'उमराव जान' का नवाब या फिर कभी फिल्म 'साथ-साथ' का बेबस बेरोजगार युवक. फारुख शेख ने 90 के दशक से फि‍ल्मों में काम करना कम कर दिया था और टीवी की ओर रुख कर लिया. फारुख बॉलीवुड और टीवी के ऐसे कलाकार रहे, जो कभी विवादों में नहीं फंसे. गुजरात के अमरोली में 25 मार्च, 1948 को एक जमींदार परिवार में जन्मे फारुख शेख पांच भाई बहनों में सबसे बड़े थे. उनकी शिक्षा मुंबई में हुई थी. वकील पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए फारुख ने भी शुरुआत में वकालत के पेशे को ही चुना, लेकिन उनके सपने और उनकी मंजिल कहीं और ही थे. वकालत में खुद अपनी पहचान न ढूंढ़ पाए फारुख ने उसके बाद अभिनय को बतौर करियर चुना. वह एक ऐसे कलाकार थे, जो अभिनय के हर मंच और छोटे-बड़े हर किरदार को पूरी वफादारी से निभाते थे. पुरुष प्रधान फिल्मों के दौर में भी फारुख ऐसे अभिनेता थे, जिन्हें रेखा पर केंद्रित 'उमराव जान' में एक छोटा-सा किरदार निभाने में भी कोई हिचकिचाहट नहीं थी. फिल्म के पोस्टर पर ही नहीं, बल्कि पूरी फिल्म में भी रेखा ही छाई थीं. लेकिन फारुख ने अपनी भूमिका के साथ पूरा न्याय किया और नवाब सुल्तान के अपने किरदार की अमिट छाप छोड़ दी. अपने लाजवाब अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले फारुख शेख ने फिल्मों की संख्या की जगह उनकी गुणवत्ता पर ध्यान दिया और यही कारण है कि अपने चार दशक के सिने करियर में उन्होंने लगभग 40 फिल्मों में ही काम किया.
और ख़बरें >

समाचार