महामीडिया न्यूज सर्विस
>>
समाचार

  • प्रधानमंत्री बनने पर भी मध्यप्रदेश की मंगोड़े वाली अम्मा को नहीं भूले थे अटल जी

     ग्वालियर (महामीडिया) अटलबिहारी वाजपेयी को खाना-पान का बहुत शौक था। ऐसा ही एक किस्सा मध्यप्रदेश के ग्वालियर से जुड़ा है। यहां के अग्रसेन पार्क के पास फुटपाथ पर छपरे के नीचे रामू सिंह चौहान मंगोड़े की दुकान चलाते हैं।अटलजी के निधन के बाद अब रामू सिंह ने बताया, 'मेरी मां रामदेवी के हाथ के मंगोड़े अटलजी को बहुत पसंद थे। बचपन में अपने पिता के सा >>और पढ़ें

  • पराक्रम के कारक भगवान परशुराम

    भोपाल (महामीडिया) हिंदू संस्कृति व इतिहास में संतों व पर्वों का अद्वितीय स्थान है। भारत की धरती संतों की उर्वरा धरती है। ऐसे ही एक महान समाज सुधारक संत शिरोमणि भगवान परशुराम का उल्लेख रामायण, महाभारत, भागवत पुराण एवं कल्कि पुराण आदि ग्रंथों में मिलता है। मान्यता है कि भगवान परशुराम ने अहंकारी और दुष्टों का पृथ्वी से 21 बार सफाया करने के ल >>और पढ़ें

  • भारत के महान संत और विचारक रामकृष्ण परमहंस

    नई दिल्ली (महामीडिया) भारत के महान संत, विचारक और स्वामी विवेकानन्द के गुरु रामकृष्ण परमहंस उर्फ गदाधर चटर्जी की जयंती है. उनका जन्म 18 फरवरी 1836 को हुआ था. हिन्दू धर्म में परमहंस की उपाधि उन्हें दी जाती है, जो समाधि की अंतिम अवस्था में होता है. उनमें कई तरह की सिद्धियां थीं लेकिन वे सिद्धियों के पार चले गए थे. उन्होंने स्वामी विवेकानंद को अपना श >>और पढ़ें

  • महान संत रविदास

    भोपाल (महामीडिया) हर साल माघ पूर्णिमा को संत रविदास की जयंती मनाई जाती है। माघ मास की पूर्णिमा को संत रविदास जी जन्म हुआ था। इस दिन संत रविदास जी की पूजा अर्चना की जाती है, शोभा यात्राएं निकाली जाती हैं और भजन कीर्तन कर संत रविदास को याद किया जाता है। रविदास जी को रैदास जी के नाम से भी जाना जाता है। इनके माता-पिता चर्मकार थे। इन्होंने अपन >>और पढ़ें

  • ब्रह्मचारी गिरीश जी-एक परिचय

    भोपाल (महामीडिया) परम् पूज्य महर्षि जी के तपोनिष्ठ शिष्य ब्रह्मचारी गिरीश जी का जन्म 25 अगस्त 1960 को मध्यप्रदेश के जबलपुर में हुआ था। प्रारंभिक शिक्षा उपरांत आपने बी.एस.सी., बी. संगीत शास्त्र एवं एल.एल.बी की पढ़ाई की। इसके पश्चात उन्होंने मात्र 23 वर्ष की आयु में ही महर्षि जी के सानिध्य में वेद-विज्ञान एवं प्राचीन भारतीय ज्ञान की शिक्षा >>और पढ़ें

  • सिक्ख गुरू नानक देव

    भोपाल (महामीडिया) सिक्ख धर्म के संस्थापक संत कवि गुरूनानक का जन्म विक्रम संवत् 1526 में कार्तिक पूर्णमा को लाहौर जिले के तलवंडी नाम गाँव में हुआ था। वह स्थान आज ननकाना साहब नाम से विश्व में प्रसिद्व है। प्रत्येक वर्ष कार्तिक पूर्णिमा को हजारों तीर्थयात्री इस पवित्र स्थान की यात्रा करने पाकिस्तान स्थित ननकाना साहिब बड़ी श्रद्धा सí >>और पढ़ें

  • संत तुकाराम

    भोपाल(महामीडिया) महाराष्ट्र के प्रसिद्व संत तुकाराम का जन्म पूना जिले के देहू गांव में विक्रम संवत 1665 में हुआ था। इनके पिता का नाम बोतहोबा और माता का नाम कनकाई था। संत तुकाराम ने पांडुरंग भगवान की भक्ति बाल्यावस्था से की थी और उनके भजन गाया करते थे। इनकी दो पत्नियाँ थी एक का नाम रघुबाई और दूसरी का नाम जीजाई था। इन्होंने अपने पिताजी  >>और पढ़ें

  • चैतन्य महाप्रभु


    भोपाल [महामीडिया] समय समय पर धर्म की अवनति होने पर कोई न कोई महात्मा अवतीर्ण होकर सदुपदेश आदि अनेक उपयों से धर्म का संस्थापन करते हैं। चैतन्य देव भी ऐसे ही अद्वितीय प्रचारक हुए हैं। श्री कृष्ण चैतन्य महाप्रभु का जन्म शक संवत 1407 में फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा को सिंह लग्न में चंद्रग्रहण के दिन पश्चिमी बंगाल के नवद्वीप नामक ग्रा >>और पढ़ें

  • भक्त कवि गोस्वामी तुलसीदास

     
    भोपाल [महामीडिया] तुलसीदास जी का अविर्भाव जिस समय हुआ था, वह समय हिन्दू जाति के लिए महान संकट का था। चंहु ओर अंधकार ही नज़र आ रहा था, कोई मार्ग नहीं सूझ रहा था। तुलसीदास जी ने भगवान का लोकमंगल रूप दिखाकर हिन्दू जाति के अंधेरे भविष्य में आशा का नव प्रकाश आलोकित किया।
    बाँका जिले के राजपुर नामक ग्राम में आत्माराम &# >>और पढ़ें

  • दीक्षा महोत्सव में होगा मुख्यमंत्री का सम्मान

    भोपाल। दिगम्बर जैन संत आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज के पचासवे दीक्षा वर्ष के अवसर पर भोपाल में भव्य "संयम स्वर्ण महोत्सव" का आयोजन 5 अक्टूबर, शरद पूर्णिमा के दिन रविन्द्र भवन के मुक्ताकाश मंच पर किया जा रहा है। इस आयोजन में मप्र संस्कृति विभाग के सहयोग से उड़ीसा के प्रिंस ग्रुप की शानदार प्रस्तुति होगी। इसके अलावा मुख्यमंत्री शिवराज सिं >>और पढ़ें

  • भगवान वाल्मीकि जयंती आज

    भारतीय संस्कृति के सत्य स्वरूप का गुणगान करने, जीवन का अर्थ समझाने, व्यवहार की शिक्षा से ओत-प्रोत ?वाल्मीकि-रामायण? एक महान् आदर्श ग्रंथ है। उसमें भारतीय संस्कृति का स्वरूप कूट-कूट कर भरा है। आदिकवि भगवान वाल्मीकि जी ने श्रीराम चंद्र जी के समस्त जीवन-चरित को हाथ में रखे हुए आंवले की तरह प्रत्यक्ष देखा और उनके मुख से वेद ही रामायण के रूप में अवत >>और पढ़ें

  • हिंदू धर्म ने दुनिया को सहनशीलता सिखाई

    स्वामी विवेकानंद ने 11 सितंबर 1893 को शिकागो (अमेरिका) में हुए विश्व धर्म सम्मेलन में दिए भाषण के 125वें वर्ष की सोमवार से शुरुआत हो रही है। इस अवसर पर विश्व को चमत्कृत करने और भारत को जगाने वाले इस भाषण के साथ स्वामीजी के अलौकिक व्यक्तित्व, शिकागो में उनके भीषण संघर्ष और मददगारों की याद। क्या कहा था विवेकानंद ने अपने भाषण में...
    - विवेकानंद ने कहा, "हे अ >>और पढ़ें

  • भवानीप्रसाद मिश्र - एक राष्ट्रीय कवि

                    भारतीय साहित्य जगत में कवि मनीषी भवानीप्रसाद मिश्र का एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है मिश्र जी गूढ़ बातों को अत्यंत आसानी एवं सरलता के साथ अपनी रचना में प्रस्तुत करते थे आपकी लेखनी सेे अनेक कालजयी रचनाओं का सृजन हुआ तथा आपको साहित्य के क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर के विभिन्न सम्मान प्राप्त हुए जिनमें सन् 1972 में बुनी हुई रस्सी के लिए साहि& >>और पढ़ें

  • देश को अमीर बना खुद कंगाल बने रहे दुनिया के सबसे गरीब राष्ट्रपति

       साउथ अमेरिकन कंट्री उरुग्वे की जब भी बात होती है तो यहां के एक्स प्रेसिडेंट जोस मुजिका का नाम सबसे पहले याद आता है। दरअसल, मुजिका दुनिया के ऐसे लीडर हैं, जिन्हें सबसे गरीब माना जाता है। मार्च, 2015 में उन्होंने प्रेसिडेंट के पद से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने यह कहते हुए पद छोड़ा था कि उन्हें अपने तीन पैर वाले दोस्त मैनुअल और चार पैर की बीटल के सा& >>और पढ़ें

  • महर्षि ने दुनिया का ज्ञान योग से किया मार्गदर्शन

    महर्षि महेश योगी ने अध्यात्म, पतंजलि के योग एवं वैदिक ज्ञान के माध्यम से हमारे देश के साथ पूरी दुनिया का मार्गदर्शन किया है। उन्होंने बताया कि योग व ध्यान से हम जीवन में शांति प्राप्त कर सकते हैं। यह बातें नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने रविवार को स्व. लखीराम अग्रवाल स्मृति सभा भवन में आयोजित महर्षि जन्म शताब्दी समारोह और 5 दिवसीय मेडिट >>और पढ़ें


नये चित्र

महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
योग
योग
विराट जीत
विराट जीत
कुछ और चित्र
MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in