महामीडिया न्यूज सर्विस
>>
समाचार

  • वैदिक मंत्रों के उच्चारण से बढ़ती है याददाश्त

    भोपाल (महामीडिया) एक अमेरिकी पत्रिका में दावा किया गया है कि वैदिक मंत्रों को याद करने से दिमाग के उसे हिस्से में बढ़ोतरी होती है जिसका काम संज्ञान लेना है, यानी की चीजों को याद करना है। डॉ जेम्स हार्टजेल नाम के न्यूरो साइंटिस्ट के इस शोध को साइंटिफिक अमेरिकन नाम के जरनल ने प्रकाशित किया है। न्यूरो साइंटिस्ट डॉ हार्टजेल ने अपनí >>और पढ़ें

  • अद्वैत वेदांत में दुनिया की सारी समस्याओं का समाधान

    भोपाल (महामीडिया) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अद्वैत वेदांत में दुनिया की सारी समस्याओं का समाधान है। अद्वैत वेदांत के अनुसार एक ही चेतना सभी प्राणियों में है, कोई भेदभाव नहीं है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास में एकात्म यात्रा के स्वागत कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर यात्रा म >>और पढ़ें

  • साधु संतों के आशीर्वाद से महर्षि जन्म शताब्दी वर्ष समारोह आरम्भ

    भोपाल (महामीडिया)  महर्षि महेश योगी जन्म शताब्दी वर्ष पूर्णता समारोह के अन्तर्गत आज आशीर्वाद दिवस समारोह में स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती जी महाराज, बद्रिकाश्रम हिमालय, अयोध्या मन्दिर न्यास के प्रमुख नृत्यगोपाल दास, मण्डलेश्वर विश्वेश्वरानन्द, सद्गुरू जितेन्द्र नाथ महाराज, मण्डलेश्वर स्वामी उमाकान्त सरस्वती, देश व्य >>और पढ़ें

  • समग्र शिक्षा पर शिक्षाविदों का मार्ग दर्शन

    भोपाल (महामीडिया) महर्षि महेश योगी जी जन्म शताब्दी पूर्णताः समारोह के उपलक्ष में आज ज्ञानयुग दिवस के अन्तर्गत महर्षि संस्थान द्वारा "समग्र शिक्षा वर्तमान-आवश्यकता" विषय पर विभिन्न विश्व विद्यालयों के कुलपति और राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त शिक्षाविदों ने अपने-अपने सुझाव और मार्ग दर्शन दिया। इस कार्यक्रम म >>और पढ़ें

  • स्वयं के अस्तित्व को कायम रखने का उपाय है एकात्म यात्रा

    भोपाल (महामीडिया)  भेद भाषाओं में होता है, अनुवादकों में होता है, संस्कृतियों में होता है, परम्पराओं में होता है, सिद्धांतों में होता है, लेकिन सत्य में नहीं। यही सृष्टि के सृजन का मूल तत्व है। वेद कहते हैं ईश्वर अजन्मा है। उसे जन्म लेने की आवश्यकता नहीं, उसने कभी जन्म नहीं लिया और वह कभी जन्म नहीं लेगा। ईश्वर तो एक ही है लेकिन देवी-ê >>और पढ़ें

  • ब्रह्मचारी गिरीश जी-एक परिचय

    भोपाल (महामीडिया) परम् पूज्य महर्षि जी के तपोनिष्ठ शिष्य ब्रह्मचारी गिरीश जी का जन्म 25 अगस्त 1960 को मध्यप्रदेश के जबलपुर में हुआ था। प्रारंभिक शिक्षा उपरांत आपने बी.एस.सी., बी. संगीत शास्त्र एवं एल.एल.बी की पढ़ाई की। इसके पश्चात उन्होंने मात्र 23 वर्ष की आयु में ही महर्षि जी के सानिध्य में वेद-विज्ञान एवं प्राचीन भारतीय ज्ञान की शिक्षा >>और पढ़ें

  • महर्षि चेतना आधारित शिक्षाः विद्यार्थियों के लिये वरदान

    भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मचारी गिरीश शिक्षा का प्रयोजन है व्यक्ति का सर्वांंगीण विकास जिसके अन्तर्गत मानसिक, शारीरिक, सामाजिक, और आध्यात्मिक विकास निहित होता है जिससे व्यक्ति को जीवन में पूर्णता और संतुष्टि प्राप्त होती है और शिक्षा का प्रयोजन पूर्ण होता है। शिक्षा से मनुष्य का व्यक्तित्व संपूर्ण, विनम >>और पढ़ें

  • तनावों और थकान से मुक्ति दिलाता है महर्षि भावातीत ध्यान

    भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मचारी गिरीश देश के महान सपूत, चेतना वैज्ञानिक, विश्व प्रशासक एवं परम् तपस्वी परम् पूज्य महर्षि महेश योगी जी ने 1957 में सम्पूर्ण विश्व को भावातीत ध्यान शैली प्रदान की जो सरल, स्वाभाविक और प्रयासहीन है, चेतना की उच्चतर अवस्थाओं की सृज्नात्मक शक्ति का विकास है, जो सारी समस्याओं का एक मात्र निराकरण है। इसके अ&# >>और पढ़ें

  • माघ मास का हर दिन है पवित्र

    भोपाल (महामीडिया) हिन्दुओं  का सर्वाधिक प्रिय माघ महीना है। माघ माह 2 जनवरी 2018 से शुरू हो गया है। हिन्दू पंचांग के अनुसार मकर संक्रांति के दिन 14 या 15 जनवरी को माघ महीने में यह मेला आयोजित होता है। यह भारत के सभी प्रमुख तीर्थ स्थलों में मनाया जाता है। 
     *  धार्मिक दृष्टिकोण से माघ मास का बहुत अधिक महत्व है। यही वजह है कि प्राचीन पुर >>और पढ़ें

  • महर्षि चेतना आधारित शिक्षाः विद्यार्थियों के लिये वरदान

    भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मचारी गिरीश शिक्षा का प्रयोजन है व्यक्ति का सर्वांंगीण विकास जिसके अन्तर्गत मानसिक, शारीरिक, सामाजिक, और आध्यात्मिक विकास निहित होता है जिससे व्यक्ति को जीवन में पूर्णता और संतुष्टि प्राप्त होती है और शिक्षा का प्रयोजन पूर्ण होता है। शिक्षा से मनुष्य का व्यक्तित्व संपूर्ण, विनम्र, शिष्&# >>और पढ़ें

  • महर्षि चेतना आधारित शिक्षाः विद्यार्थियों के लिये वरदान

    भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मचारी गिरीश शिक्षा का प्रयोजन है व्यक्ति का सर्वांंगीण विकास जिसके अन्तर्गत मानसिक, शारीरिक, सामाजिक, और आध्यात्मिक विकास निहित होता है जिससे व्यक्ति को जीवन में पूर्णता और संतुष्टि प्राप्त होती है और शिक्षा का प्रयोजन पूर्ण होता है। शिक्षा से मनुष्य का व्यक्तित्व संपूर्ण, विनम >>और पढ़ें

  • तनावों और थकान से मुक्ति दिलाता है महर्षि भावातीत ध्यान

    भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मचारी गिरीश देश के महान सपूत, चेतना वैज्ञानिक, विश्व प्रशासक एवं परम् तपस्वी परम् पूज्य महर्षि महेश योगी जी ने 1957 में सम्पूर्ण विश्व को भावातीत ध्यान शैली प्रदान की जो सरल, स्वाभाविक और प्रयासहीन है, चेतना की उच्चतर अवस्थाओं की सृज्नात्मक शक्ति का विकास है, जो सारी समस्याओ >>और पढ़ें

  • सबरीमला मंदिर में महिलाओं को दिखाना होगा बर्थ सर्टिफिकेट

    तिरुवनंतपुरम (महामीडिया) केरल के सबरीमला के प्रसिद्ध भगवान अयप्पा मंदिर में प्रवेश करने की इच्छुक महिलाओं के लिए आयु का कोई वास्तविक प्रमाण दिखाना जरूरी हो गया है. इस मंदिर में 10 वर्ष से 50 वर्ष तक उम्र की महिलाओं का प्रवेश वर्जित है.मंदिर का प्रबंधन करने वाले त्रावणकोर देवस्वम ने ऐसे समय में आयु प्रमाण-पत्र अनिवार्य करने का फैसला ल >>और पढ़ें

  • धार्मिक और आध्यात्मिक दृष्टिकोण से विशेष होता है माघ का महीना

    भोपाल (महामीडिया) माघ का महीना पंरपरागत रूप से भी अध्यात्म मार्ग के लिए अनुकूल माना जाता है। इसीलिए नए कैलेंडर के शुरुआती महीने में सबसे ज्यादा व्रत पर्व मनाए जाते हैं। इन दिनों पृथ्वी सूर्य के सबसे नजदीक होती है। वैसे तो उत्तरी गोलार्ध में इसे सबसे गर्म महीना होना चाहिए, मगर यह सबसे ठंडा महीना होता है, क्योंकि पृथ्वी का उत्तरी भा&# >>और पढ़ें

  • भारत के पहले गौ अभ्यारण्य में कोई नहीं गायों का रखवाला

    भोपाल (महामीडिया) छत्तीसगढ़ की गौ शालाओं में बड़ी तादाद में भूख-प्यास से गायों के दम तोड़ने के बाद अब पड़ोसी मध्य प्रदेश के आगर मालवा जिले में बने देश के पहले गौ अभ्यारण्य से गायों के लगातार मौत की ख़बर आ रही है. हालांकि, प्रशासन का कहना है कि ठंड के महीने में ये आंकड़े सामान्य हैं. मध्यप्रदेश के आगर-मालवा ज़िले के सलारिया में 28 सितंबर 2017 क&# >>और पढ़ें


नये चित्र

महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
योग
योग
विराट जीत
विराट जीत
कुछ और चित्र
MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in