महामीडिया न्यूज सर्विस
>>
समाचार

  • गर्मियों में 'योग' से खुद को बनाएं शीतल

    भोपाल (महामीडिया) गर्मियों में खुद को शीतल बनाए रखने के लिए योग महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करता है। एक योगसाधक के लिए यह परिवर्तन का एक हिस्सा है। एक मौसम बदलकर दूसरे मौसम का रूप लेता है और हर मौसम अपने हिसाब से वातावरण में परिवर्तन लाता है। एक योगी स्थिर भाव से इन परिवर्तनों को देखता है और इन परिवर्तनों के अनुसार ही कार्य करता हैः आपका शरी >>और पढ़ें

  • शारीरिक-मानसिक रूप से स्वस्थ रखने के लिये बच्चों को सिखाएं योगासन

    भोपाल (महामीडिया) हर माता-पिता का सपना होता है कि उसका बच्चा शारीरिक-मानसिक रूप से स्वस्थ रहे। व्यस्त दिनचर्या और गलत खानपान के कारण बच्चे भी तनाव और बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। फिट रहने के लिए हेल्थ सप्लीमेंट्स से पहले उन्हें योग सिखाएं। उन्हें हमेशा किसी एक्सपर्ट की निगरानी में ही करें। 
    सूर्य नमस्कार: सूर्य नमस्कार से शर >>और पढ़ें

  • स्वस्थ रहने के लिए रोजाना करें ये 2 योगासन

    भोपाल (महामीडिया) हमारे देश में बहुत कम ऐसे लोग हैं, जो 60 साल की उम्र में भी उसी जीवंतता के साथ जीवन व्यतीत करते हैं। योग के सहारे इस उम्र में भी खुद को शारीरिक व मानसिक रूप से दुरुस्त रख सका जा सकता है। उम्र के अलग-अलग दौर में विभिन्न प्रकार के हॉर्मोनल बदलाव होते हैं। ऐसे में अपनी स्ट्रेंथ बढ़ाने, बीमारियों को दूर करने, हड्डियों की उम्र बढ़ान >>और पढ़ें

  • इन योगासनों से मजबूत होगी पाचन शक्ति

    भोपाल (महामीडिया) पाचन तंत्र हमारे शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा है। हम जो कुछ खाते हैं उसको ऊर्जा में बदलना और हमारे आहार से शरीर के विकास के लिए जरूरी तत्व अलग करना, ये सब पाचन क्रिया के ही अंतर्गत आता है। आजकल बहुत सारे लोग पाचन संबंधी समस्याओं से परेशान रहते हैं। इसकी वजह लोगों के खान-पान संबंधी आदतें और कम शारीरिक मेहनत है। बाजार में बिकन >>और पढ़ें

  • सालभर रहना है स्वस्थ तो करें ये योगासन

    भोपाल (महामीडिया) बदलती लाइफस्टाइल और बढ़ते प्रदूषण ने हमारी जिंदगी में तमाम तरह के बदलाव किए हैं। इनमें सबसे ज्यादा अगर कुछ बदला है तो नई तरह की बीमारियों ने अपनी जड़ें जमा ली है। संक्रामक बीमारियां हमारे शरीर पर अटैक करें, इससे पहले हमें खुद की रक्षा के लिए जरूरी कदम उठा लेने चाहिए,‍ जिससे शरीर रोगमुक्त रहे। दरअसल, आने वाले सा >>और पढ़ें

  • तनावों और थकान से मुक्ति दिलाता है महर्षि भावातीत ध्यान

    भोपाल (महामीडिया) ब्रह्मचारी गिरीश देश के महान सपूत, चेतना वैज्ञानिक, विश्व प्रशासक एवं परम् तपस्वी परम् पूज्य महर्षि महेश योगी जी ने 1957 में सम्पूर्ण विश्व को भावातीत ध्यान शैली प्रदान की जो सरल, स्वाभाविक और प्रयासहीन है, चेतना की उच्चतर अवस्थाओं की सृज्नात्मक शक्ति का विकास है, जो सारी समस्याओं का एक मात्र निराकरण है। इसके अ&# >>और पढ़ें

  • सभी बीमारियां दूर करे नौकासन

     नई दिल्ली । नौका आसन यानी नाव के समान मुद्रा। पीठ एवं मेरूदंड को लचीला व मजबूत बनाये रखने के लिए नौकासन का अभ्यास काफी लाभदायक होता है। यह आसन ध्यान और आत्मबल को बढ़ाने में भी कारगर होता है। कंधों एवं कमर के लिए भी यह व्यायाम फायदेमंद है। शरीर को सुडौल बनाये रखने के लिए भी यह आसन बहुत ही लाभदायक होता है। इससे पाचन क्रिया, छोटी-बड़ी आँत में लाभ म >>और पढ़ें

  • यह आसान आसन करे और अपनी याददाश्त बढ़ाये

      नई दिल्ली ।  अगर आप भी चीजें रखकर भूल जाते हैं या कई बार एक ही चीज पढ़ने के बावजूद भी आपको कुछ याद नहीं रहता तो ये जादुई आसन आपकी मदद कर सकता है। योग की भूचरी मुद्रा का नियमित अभ्यास न सिर्फ याददाश्त बढ़ाने में मदद करता है बल्कि यह मानसिक शांति देता है और फोकस बढ़ाता है।
    ? इसे करने के लिए पालथी मारकर सीधे बैठें और कमर सीधी रखें।
    ? अब हथे‌लियों क >>और पढ़ें

  • योग को जरूरी बनाने की अर्जी SC ने ठुकराई, कहा- यह हम तय नहीं कर सकते

     नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने स्कूलों में योग को जरूरी बनाने के लिए नेशनल योग पॉलिसी बनाने की मांग करती अर्जी खारिज कर दी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वह यह तय नहीं कर सकता कि स्कूलों में क्या सिखाया जाना चाहिए। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दायर अर्जी में मांग की गई थी कि एक पॉलिसी बनाकर देशभर के स्कूलों 1st से 8th तक योग सिखाना कम्पलसरी किया जाए। जस्टि >>और पढ़ें

  • भावातीत ध्यान को विश्व समुदाय से जोड़ने का प्रयास करें विद्यार्थी

     भोपाल। अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आज महर्षि महेश योगी संस्थान के रतनपुर स्थित महर्षि विद्या मंदिर स्कूल सभागार में भव्य योग उत्सव का आयोजन किया किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ गुरूपूजन के साथ हुआ। तत्पश्चात विशिष्ठ अतिथियों, योग, भावातीत ध्यान एवं सिद्धि शिक्षकों की उपस्थिति में महर्षि स्कूल के बच्चों द्वारा विभिन्न आसê >>और पढ़ें

  • कई बीमारियों को खत्म कर देता बकरी योग

    भारत में शुरु हुआ योग आज दुनिया के कितने ही देशों में लोकप्रिय हो चुका है. लेकिन अलग अलग जगहों पर योग को और दिलचस्प बनाने के लिए कई तरह के प्रयोग भी हो रहे हैं. जैसे कि अमेरिका के ओरेगन में हो रहा है बकरी के साथ योग. ओरेगन की निवासी लायनी मोर्से ने अपने योग सत्र को और रोमांचक बनाने के लिए योग प्रशिक्षक हीथर बैलेंगर-डेविस के साथ मिलकर बकरी को योग में ë >>और पढ़ें

  • चाइनीज को भा रहे हैं ऋषिकेश के योग गुरु

     उत्तराखंड स्थित ऋषिकेश को योग गुरुओं की राजधानी माना जाता है। वर्तमान समय में देश और विदेश के लिए सबसे अधिक योग गुरु यहीं तैयार हुए हैं। अनुमान के मुताबिक चीन में तकरीबन 1,500 योग टीचर्स शिक्षा दे रहे हैं। इनमें से 70 से 80 प्रतिशत योग टीचर्स ने ऋषिकेश और हरिद्वार में ट्रेनिंग ली है।बीते दिनों चीन में 'मोस्ट ब्यूटिफुल योगी ऑफ चाइना' का अवॉर्ड पाने व >>और पढ़ें

  • वेदों में छिपा है पर्यावरण संरक्षण का रहस्य

    पर्यावरण-सन्तुलन से तात्पर्य है जीवों के आसपास की समस्त जैविक एवं अजैविक परिस्थितियों के बीच पूर्ण सामंजस्य। इस सामंजस्य का महत्त्व वेदों में विस्तारपूर्वक वर्णित है। कल्याणकारी संकल्पना, शुद्ध आचरण, निर्मल वाणी एवं सुनिश्चì >>और पढ़ें

  • वेदों में छिपा है पर्यावरण संरक्षण का रहस्य

    पर्यावरण-सन्तुलन से तात्पर्य है जीवों के आसपास की समस्त जैविक एवं अजैविक परिस्थितियों के बीच पूर्ण सामंजस्य। इस सामंजस्य का महत्त्व वेदों में विस्तारपूर्वक वर्णित है। कल्याणकारी संकल्पना, शुद्ध आचरण, निर्मल वाणी एवं सुनिश्चì >>और पढ़ें

  • वेदों में छिपा है पर्यावरण संरक्षण का रहस्य

    पर्यावरण-सन्तुलन से तात्पर्य है जीवों के आसपास की समस्त जैविक एवं अजैविक परिस्थितियों के बीच पूर्ण सामंजस्य। इस सामंजस्य का महत्त्व वेदों में विस्तारपूर्वक वर्णित है। कल्याणकारी संकल्पना, शुद्ध आचरण, निर्मल वाणी एवं सुनिश्चì >>और पढ़ें


नये चित्र

महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
योग
योग
विराट जीत
विराट जीत
कुछ और चित्र
MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in