महामीडिया न्यूज सर्विस
>>
समाचार

  • यमघट योग, हस्त नक्षत्र में 31 मार्च को मनाई जाएगी हनुमान जयंती

    भोपाल (महामीडिया) यमघट योग, हस्त नक्षत्र में चैत्र शुक्ल पक्ष स्नान दान पूर्णिमा पर 31 मार्च को हनुमान जयंती मानाई जाएगी। हनुमान जयंती के दिन शनिवार होने का भी विशेष संयोग पड़ रहा है। इसके कारण शहर के हनुमान और शनि मंदिरों पर भी हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए भक्त विशेष पूजा-अर्जना व अभिषेक करेंगे।इससे पहले हनुमान जयंती के ऐसे संयोग 10 साल  >>और पढ़ें

  • सभी प्राणियों के प्रति सम्मान का भाव रखने वाले भगवान महावीर जी

    भोपाल (महामीडिया) जैनियों के २४वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्म ईसा से ५९९ वर्ष पूर्व चैत्र शुक्ला त्रयोदशी को ५४३ वर्ष विक्रम पूर्व वैशाली गणतंत्र के लिच्छिवी वंश के महाराज श्री सिद्धार्थ और माता त्रिशला देवी के यहाँ हुआ। इनका नाम वर्धमान रखा गया क्योंकि इनके जन्म से ही राजा सिद्धार्थ के राज्य में अभिवृद्धि होने लगी थी। वर्धमान ज& >>और पढ़ें

  • कुमति निवार सुमति के संगी श्री हनुमान जी

    भोपाल (महामीडिया) हनुमान जयंती एक हिंदू पर्व है। यह चैत्र माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस दिन को हनुमान जी के जन्मदिन के तौर पर मनाया जाता है। पवनपुत्र जी को भगवान शिव का 11वां रूद्र रूप माना गया है। धार्मिक ग्रथों के अनुसार ये आज भी जीवित है और धरती पर भ्रमण करते हैं। हमारे धर्मशास्त्रों में आत्मज्ञान की साधना के लिए तीन गुणों की अनिव >>और पढ़ें

  • शक्ति अमोघ फलदायिनी है देवी महागौरी

    भोपाल (महामीडिया) चैत्र नवरात्र के अंतर्गत चैत्र अष्टमी को अष्टम दुर्गा देवी महागौरी की पूजन की जाती है।। देवी महागौरी राहु ग्रह पर अपना आधिपत्य रखती हैं। महागौरी मनुष्य के वयोवृद्ध मृत देह की स्थिति को संबोधित करती हैं। शब्द महागौरी का अर्थ है महान देवी गौरी। महागौरी के तेज से संपूर्ण विश्व प्रकाशमय है। इनकी शक्ति अमोघ फलदायिनी है& >>और पढ़ें

  • रामनवमी आज

    भोपाल (महामीडिया) हिन्दू त्योहारों में राम नवमी का विशेष स्थान होता है। यह त्योहार भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। राम नवमी का पर्व आज मनाया जाएगा। राम नवमी से ही चैत्र नवरात्रि का समाप्ति हो जाती है। भगवान राम विष्णु के अवतारों में से एक है। भगवान राम का जन्म चैत्र मास के नवमी तिथि को पुष्य नक्षत्र में हुआ था। शास्त्रों के >>और पढ़ें

  • माता सिद्धिदात्री की कृपा से होती है सिद्धियों का प्राप्ति

    भोपाल (महामीडिया) चैत्र नवरात्रि के अंतर्गत नवम दुर्गा देवी सिद्धिदात्री के पूजन के साथ ही नवरात्रि का पारण और पूर्णाहुति की जाएगी। सिद्धिदात्री केतु ग्रह पर अपना आधिपत्य रखती है। सिद्धिदात्री का स्वरुप उस देह त्याग कर चुकी आत्मा का है जिसने जीवन में सर्व सिद्धि प्राप्त कर स्वयं को परमेश्वर में विलीन कर लिया है। मार्कण्डेय पुराण क&# >>और पढ़ें

  • रामनवमी पर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने दी देशवासियों को शुभकामनाएं

    नई दिल्ली (महामीडिया) देशभर में आज रामनवमी का पर्व पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को शुभकामनाएं दी है। राष्ट्रपति कोविंद ने ट्वीट कर लिखा, राम नवमी के अवसर पर सभी देश-वासियों को बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं। भगवान राम का जीवन अपने आप में ही एक संदेश  >>और पढ़ें

  • हिन्दू धर्म का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार राम नवमी

    भोपाल (महामीडिया) राम नवमी हिन्दू धर्म का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। राम नवमी चैत्र कृष्ण की नवमी 25 मार्च को है। राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के तौर पर समूचे भारत में मनाया जाता है। भगवान राम का जन्म मध्याह्न काल में नवमी तिथि को पुनर्वसु नक्षत्र में कौशल्या की कोख से राजा दशरथ के घर हुआ था। धर्म अध्यात्म के अनुसार चैत्र के महीने के न >>और पढ़ें

  • माता का सबसे पूजनीय निवास स्थान वैष्णो देवी धाम

    भोपाल (महामीडिया) वैष्णो देवी उत्तरी भारत के सबसे पूजनीय और पवित्र स्थलों में से एक है। यह मंदिर पहाड़ पर स्थित होने के कारण अपनी भव्यता व सुंदरता के कारण भी प्रसिद्ध है। वैष्णो देवी भी ऐसे ही स्थानों में एक है जिसे माता का निवास स्थान माना जाता है। मंदिर, 5,200 फीट की ऊंचाई और कटरा से लगभग 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हर साल लाखों तीर्थ यात्र >>और पढ़ें

  • बुरी शक्तियों से बचाने के लिए वरूण देव की पूजा

    भोपाल (महामीडिया) झूलेलाल जयंती चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया को मनाई जाती है। झूलेलाल जयंती सिंधी समाज का सबसे बड़ा पर्व है। झूलेलाल भगवान वरुण देव का अवतार रूप है। झूलेलाल उत्स्व चेटीचंड का पर्व सिंधी समाज वैदिक काल से मनाता आ रहा है। झूलेलाल के अन्य नाम हिन्दू धर्म में भगवान झूलेलाल के अन्य नाम उदेरोलाल, ललसाई, अमरपाल, जिन्दपी >>और पढ़ें

  • नवरात्रि में माता को अर्पित करें ये 9 भोग

    भोपाल (महामीडिया) नवरात्रि का पहला दिन मां के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा की जाती है। शैलपुत्री को सफेद चीजों का भोग लगाया जाता है इसलिए माता दुर्गा को गाय के शुद्ध घी का भोग लगाएं। नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्राचारिणी को चीनी और मिश्री का भोग लगाना शुभ माना जाता है। साथ ही इन चीजों को दान करने से सौभाग्य में बढ़ोतरी होती है। रात्रि के ती >>और पढ़ें

  • द्वितीय मां ब्रह्मचारिणी करती हैं मंगल को शांत

    भोपाल (महामीडिया) मां ब्रह्मचारिणी की पूजा नवरात्रि के दूसरे दिन होती है। देवी के इस रूप को माता पार्वती का अविवाहित रूप माना जाता है। ब्रह्मचारिणी संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ, ब्रह्म के समान आचरण करने वाली। इन्हें कठोर तपस्या करने के कारण तपश्चारिणी भी कहा जाता है। माता ब्रह्मचारिणी श्वेत वस्त्र पहने दाहिने हाथ में जप माला और बाएं हा >>और पढ़ें

  • सृष्टि की वर्षगांठ नवसंवत्सर की शुरुआत आज से

    नई दिल्ली (महामीडिया) चैत्रे मासि जगद् ब्रह्मा ससर्ज प्रथमे अहनि, शुक्ल पक्षे समग्रेतु तु सदा सूर्योदये सति। ब्रह्म पुराण में वर्णित इस श्लोक के अनुसार चैत्र मास के प्रथम सूर्योदय पर ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की थी। इसी दिन से विक्रमी संवत की शुरुआत होती है। आर्या हिंदू विक्रमी संवत आज भी धार्मिक अनुष्ठानों और मांगलिक कार्यों में >>और पढ़ें

  • नवरात्रि का पहला दिन शैलपुत्रि

    वाराणसी  (महामीडिया) चैत्र नवरात्रि का शुभारंभ रविवार से हो गया है। नवरात्र के पहले दिन देवी मां के पहले स्वरूप शैलपुत्री की पूजा अर्चना की जाती है। नवरात्रों में देशभर के मंदिर सजाए जाते हैं, जहां पूरे 9 दिन मां के सभी रूपों की पूजा की जाती है। इसी क्रम में धर्म की नगरी काशी के अलइपुरा इलाके स्थित देवी शैलपुत्री मंदिर में भक्तों की भीड़ उमड़ रì >>और पढ़ें

  • गुड़ी पड़वा आज

    भोपाल (महामीडिया) हिंदू पंचाग के अनुसार 18 मार्च को साल का शुभारंभ हो रहा है। साथ ही इस दिन गुड़ी पड़वा का त्योहार भी है। जो कि बहुत ही ख़ास है। इन उत्सवों में शुभ योग होने के कारण इसका महत्व अधिक बढ़ जाता है। माना जाता है कि गुड़ी पाड़वा के दिन विधि-विधान के साथ पूजा-पाठ करने से आपको हर साल किसी भी चीज की कमी नहीं होती है। साथ ही घर में सुख-समृद्ध&# >>और पढ़ें


नये चित्र

महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
महर्षि विद्या मंदिर
योग
योग
विराट जीत
विराट जीत
कुछ और चित्र
MAHA MEDIA NEWS SERVICES

Sarnath Complex 3rd Floor,
Front of Board Office, Shivaji Nagar, Bhopal
Madhya Pradesh, India

+91 755 4097200-16
Fax : +91 755 4000634

mmns.india@gmail.com
mmns.india@yahoo.in