ऐसा होगा राष्ट्रीय भर्ती संस्था का स्वरुप और कार्य

ऐसा होगा राष्ट्रीय भर्ती संस्था का स्वरुप और कार्य

भोपाल[ महामीडिया ]सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे और करने की इच्छा रखनेवालों के लिए केंद्र सरकार ने  राष्ट्रीय भर्ती संस्था के गठन को हरी झंडी दे दी है।रेलवे, बैंकिंग और SSC संबंधित जितनी भी सरकारी  नौकरी के लिए कोई अप्लाइ करना चाहेगा उसे अब कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट देना होगा।मतलब अलग-अलग एग्जाम और अलग-अलग टाइम पर एग्जाम के झंझट को सरकार ने खत्म कर दिया।अबतक केंद्र सरकार में नौकरियों के लिए विभिन्न संस्थाएं एग्जाम करा रही थीं।इसमें स्टाफ सिलेक्शन कमीशन, रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड और इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग सिलेक्शन शामिल हैं।हर साल केंद्र सरकार लगभग 1.25 लाख सरकारी नौकरी निकालती है जिनके लिए 2.5 करोड़ से 3 करोड़ तक आवेदन आते हैं।बताया गया है कि जब भी National Recruitment Agency बन जाएगी तो उसके बाद शुरुआत में सिर्फ ग्रुप बी और सी (नॉन टेक्निकल पोस्ट) के लिए कैंडिडेट्स की स्क्रीनिंग और शॉर्टलिस्ट का काम करेगी।अभी IBPS, RRB और SSC संस्थाएं ऐसी ही बनी रहेंगी।CET में स्कोर लेवल स्क्रीनिंग के बाद फाइनल रिक्रूटमेंट संबंधित एजेंसी ही करेगी।राष्ट्रीय आयोग की परीक्षा साल में दो बार होगी।एक बार का अंक अगले तीन सालों के लिए काम आएगा. अगर किसी को लगता है कि उसके कम अंक मिले हैं तो अगले बार वह फिर से परीक्षा दे सकता है।ऐसा नहीं है कि CET एक ही बार दिया जा सकता है. ऐज लिमिट के हिसाब से यह कितनी बार भी दिया जा सकेगा।लेकिन साल में सिर्फ दो बार।इसके लिए ऐज लिमिट पहले से चले आ रहे नियमों के हिसाब से होगी।इसके बारे में अभी सिर्फ इतना ही बताया गया है कि CET का सिलेबस सबका एक सा होगा।बस टेस्ट का लेवल तीन स्टेज के हिसाब से होगा।पहला ग्रेजुएट, दूसरा हायर सेंकंडरी (12वीं) और तीसरा दसवीं।बताया गया है कि यह CET संविधान की आठवीं अनुसूची के हिसाब से 12 भाषाओं में हुआ करेगा।बताया गया है कि लोगों की सुविधा का ध्यान रखते हुए लगभग हर जिले में एग्जाम सेंटर्स बनाए जाएंगे।इसके लिए केंद्र सरकार ने शुरुआती रूप से 3 साल के लिए 1517 करोड़ रुपये का फंड दिया है।यह पैसा NRA और एग्जाम सेंटर बनाने में काम आएगा.


 

सम्बंधित ख़बरें