कानपुर-इलाहाबाद और वाराणसी में खतरनाक हुआ गंगा का पानी

www.mahamediaonline.comकॉपीराइट © 2014 महा मीडिया न्यूज सर्विस प्राइवेट लिमिटेड

कानपुर (महामीडिया) गंगा किनारे बसे शहरों कानपुर, इलाहाबाद और वाराणसी में सर्वाधिक मामले पित्त की थैली के कैंसर के सामने आ रहे हैं। जेके कैंसर संस्थान में हुए अध्ययन में पता चला है कि गंगा में बढ़ते प्रदूषण की वजह से यह बीमारी अपना रौद्र रूप ले रही है। गोमुख से लेकर बंगाल की खाड़ी तक गंगा हमारी लाइफ लाइन हैं। उत्तर भारत के प्रमुख शहर तट पर बसे हैं। फिर भी लोग गंगा को प्रदूषित कर रहे हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ नॉन कम्युनिकेबल डिसीज, बेंगलुरु की रिपोर्ट में भी गंगा के तटीय क्षेत्र में गॉल ब्लाडर के मामले सर्वाधिक पाए गए हैं।