दान– पुण्य का सबसे शुभ महीना 'माघ' आज से

दान– पुण्य का सबसे शुभ महीना 'माघ' आज से

भोपाल (महामीडिया) हिंदू पंचांग के अनुसार माघ महीने की शुरुआत आज से हो गई है। यह महीना 27 फरवरी 2021 को समाप्त होगा। ये हिंदू कैलेंडर का ग्यारहवां महीना होता है। इस महीने के देवता श्रीकृष्ण माने जाते हैं। माघ मास दान– पुण्य करने के लिए सबसे शुभ माना जाता है। पौष पूर्णिमा से माघ स्नान की शुरुआत हो चुकी है और माघ पूर्णिमा को समापन होगा। इस महीने का बहुत अधिक महत्व है। 
इस महीने में वसंत ऋतु के आने और पर्व एवं तीज-त्योहारों की शुरुआत होने से इसे पवित्र माना जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार माघ महीने में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। मान्यता हैं कि इस महीने में गंगा स्नान करने से भगवान विष्णु जातक पर प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद देते हैं। माघ महीने में कई श्रद्धालु गंगा नदी या संगम के किनारे कल्पवास करते हैं।
माघ मास का महत्व
माघ महीने में पूजा – पाठ करने से मन में शांति रहती है। हर दिन पूजा– पाठ करने से घर में सुख-शांति और खुशहाली बनी रहती हैं।
इसके अलावा इस महीने में दान करना बहुत शुभ माना जाता है। इसलिए इस महीने में अपने सामर्थ्य के हिसाब से दान जरूर करना चाहिए। आप अनाज, वस्त्र या धन दान कर सकते है। इससे आपके घर में सुख- शांति बनी रहेगी।
कथा
पौराणिक कथाओं के अनुसार, नर्मदा किनारे शुभव्रत नामक एक ब्राह्मण रहता था। वह बहुत ज्ञानी था। लेकिन उसे धन कमाने का बहुत शौक था। उसने ऐसा किया भी। लेकिन वृद्धावस्था के दौरान उन्हें कई तरह के रोगों ने घेर लिया। इस दौरान उन्हें एहसास हुआ कि उन्होंने पूरा जीवन कमाने में लगा दिया।
वह परलोक सिधारना चाहते थे। इसकी वजह से वह बहुत चिंतित रहने लगे थे। एक दिन अचानक उन्हें एक श्लोक याद आया जिसमें माघ स्नान करने की विशेषता के बारे में जानकारी दी गई थी। उन्होंने माघ में स्नान करने का संकल्प लिया। उन्होंने नौ दिन तक स्नान किया और दसवें दिन स्नान के बाद देह त्याग दिया।
शुभव्रत ने कोई अच्छा काम नहीं किया। लेकिन माघ में स्नान करके पश्चताप करने से उसका मन साफ हो गया। माघ महीने में स्नान करने की वजह से उन्हें स्वर्ग की प्राप्ति हुई।
 

सम्बंधित ख़बरें