'रामायण' के राइट्स बीबीसी खरीदना चाहता था http://www.mahamediaonline.com

'रामायण' के राइट्स बीबीसी खरीदना चाहता था

भोपाल  [ महामीडिया ]रामानंद सागार की 'रामायण' को लेकर इस वक्त काफी चर्चा है। इस पुराने शो की वापसी लॉकडाउन के दौरान डीडी नेशनल पर हुई। इसके बाद से शो ने टीआरपी के कई रिकॉर्ड तोड़ दिए। एक दिन ऐसा आया, जब इसने एचबीओ के शो 'गेम ऑफ़ थ्रोन्स' को भी पीछे छोड़ दिया। लेकिन यह पहली बार नहीं है, जब रामायण इतना फेमस हुआ हो। इससे पहले 90 के दशक में यह अपना जलवा बिखेर चुका है। अरुण गोविल, दीपिका चिखलिया और सुनील लहरी से जैसे स्टार्स से जैसे इस मैथॉलॉजिकल शो ने टीवी के जरिए भारत के घरों में अपनी जगह बनाई। इसकी पॉपुलरटी इतनी हो गई कि बीबीसी भी इसे टेलीकॉस्ट करना चाहता था। इसके लिए रामानंद सागर और बीबीसी के बीच बातचीत भी हुई थी। एक्टर और मेकर्स ब्रिटेन भी गए थे, लेकिन कुछ ऐसा हुआ कि मामला बन नहीं पाया। रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर ने हाल ही में एक इंटरव्यू में इसका खुलासा किया। बीबीसी के राइट्स खरीदने के मामले में उन्होंने बताया, 'वे (बीबीसी) एशियाई जनता के लिए रामायण के राइट्स खरीदना चाहते थे। कॉन्ट्रेक्ट साइन करने से पहले एक इंटरव्यू के लिए रामानंद सागर, अरुण गोविल, अरविंद त्रिवेदी और मैं उनके लिवरपुल के स्टूडियो भी गए।'प्रेम ने यह भी बताया कि कैसे यह राइट्स मुद्दा अपने अंतिम चरण तक नहीं पहुंच पाया। उन्होंने बताया, 'वे चाहते थे कि अरुण गोविल, राम के पूरे ड्रेस और मुकट के साथ स्टूडियों में परैड करें, ताकि वह इसे फ़िल्मा सकें। मैंने और पिता जी ने इस बात को महसूस किया यह भारत में पूजे जाने वाले श्री राम की इमेज को तोड़ने का एक सोचा-समझा प्रयास है। हमनें उनकी बात को नकार दिया। लंदन और बर्मिंघम के बीच टेलीफोनों पर काफी चर्चा हुई। आखिरीकार उन्होंने अनुबंध के लिए इनकार कर दिया।' इस तरह बीबीसी पर रामायण प्रसारित नहीं हो सका। 
 

सम्बंधित ख़बरें