भोपाल में कचरे से बनेगा कोयला

भोपाल में कचरे से बनेगा कोयला

भोपाल (महामीडिया) देश में भोपाल, वाराणसी के बाद दूसरा ऐसा शहर बनने जा रहा है, जहां सूखे कचरे से टॉरीफाइड चारकोल यानि कोयला बनाया जाएगा. इसका उपयोग बिजली उत्पादन के लिए किया जाता है. बिजली उत्पादन के लिए कोयले की कमी को देखते हुए यह भविष्य के लिए एक बड़ा कदम साबित हो सकता है. इसके लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान और अन्य अफसरों की उपस्थिति में एनटीपीसी और नगर निगम के बीच अनुबंध हुआ। निगमायुक्त वीएस चौधरी कोलसानी ने अनुबंध पर हस्ताक्षर किए. 
अनुबंध के तहत भोपाल नगर निगम एनटीपीसी को आदमपुर छावनी में 15 एकड़ जमीन मुहैया कराएगा. यहां 400 टन हर दिन सूखे कचरे से टॉरीफाइड चारकोल बनेगा. एनटीपीसी इस पर 80 करोड़ रुपए खर्च करेगा. विशेष बात यह भी है कि अभी निगम सूखे कचरे के निष्पादन पर प्रति वर्ष जो 4 करोड़ 86 लाख 18 हजार रुपए खर्च करता है, वह पूरी रकम बचेगी। हाल ही में इसी प्रकार से टॉरीफाइड चारकोल बनाने के लिए एनटीपीसी ने वाराणसी नगर निगम के साथ भी ऐसा ही अनुबंध किया है. 
 

सम्बंधित ख़बरें