स्वास्थ्यः मानसून में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया से बचें

स्वास्थ्यः मानसून में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया से बचें

भोपाल (महामीडिया) भारत में जैसे ही मानसूनी बारिश शुरू होती है तो वायरल का खतरा भी धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। सबसे ज्यादा खतरा डेंगू और मलेरिया बीमारी से है, जिससे भारत में लाखों लोग प्रभावित होते हैं। इसे हम वेक्टर जनित वायरल रोग कहते हैं, जो एडीस एजिप्टी नामक मच्छर से फैलता है​। यह मच्छर घरेलू वातावरण में एवं आसपास इकट्ठे साफ पानी में उत्पन्न होता है।
विशेषज्ञ मानते हैं कि अगर सावधानी बरती जाए तो किसी भी रोग से छुटकारा पाया जा सकता है। यह सही है कि मानसून में वेक्टर जनित वायरल रोगों का खतरा रहता है, ऐसे में इससे बचने के लिए हमें कुछ जरूरी बातों पर ध्यान देना चाहिए। 
जानते है मानसून में वेक्टर जनित वायरल रोगों से कैसे बचें
सूर्यास्त से पहले खिड़कियों और दरवाजों को बंद कर लें

बारिश होती है तो घर की खिड़कियां और दरवाजों को हम खोल देते हैं, ताकि बारिश का भरपूर आनंद ले सकें, लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि सूर्यास्त से पहले या जब दिन ढलने लगे तो घर के सभी खिड़कियों और दरवाजों को बंद कर दें क्योंकि देखा गया है कि मच्छर आमतौर पर सूर्यास्त के दौरान और बाद में अधिक सक्रिय होते हैं।
फुल साइज के कपड़े पहनें
एडीस एजिप्टी नामक मच्छर कभी भी हमला बोल सकते हैं, इसलिए हमेशा सर्तक रहना बहुत जरूरी है। आप चाहे घर पर हो या फिर बाहर अपने शरीर को जितना ज्यादा हो सके कपड़ों से ढककर रखें। आप पूरी बाजू की शर्ट, कुर्ता, पैंट, पजामा आदि पहनकर रखें। साथ ही, बच्चों को भी फुल साइज के कपड़े पहनाएं। महिलाएं भी इस बात का पूरा ध्यान दें। जितना शरीर ढका रहेगा, उतना ही हम मच्छरों से सुरक्षित रह सकते हैं।
सोते समय मच्छरदानी का उपयोग
बरसात के मौसम में पानी इकट्ठा होता है, जिससे मच्छर भी पैदा होते हैं। इन मच्छरों से बचने के लिए आप हमेशा मच्छरदानी का उपयोग करें। मच्छरों और अन्य बीमारियों को पैदा करने वाले कीड़ों से बचने के लिए यह एक आसान, प्रभावी और प्राकृतिक तरीका है। 
आसपास के वातावरण को रखें साफ
ऐसा देखा गया है कि जो व्यक्ति खुद को साफ रखता है तथा अपने आसपास के वातावरण को साफ रखता है, बीमारियां उससे दूर रहती हैं। वेक्टर जनित वायरल रोगों से बचने के लिए यह जरूरी है कि आप खुद के साथ-साथ अपने घर को भी साफ करें। यह ध्यान दें कि कहीं आसपास पानी तो इकट्ठा नहीं हो रहा है। बर्तन कूलर या छत पर कहीं पानी इकट्ठा हो रहा है, तो उसे नियमित रूप से साफ करें। साथ ही अपने आसपास दवाईयों का भी छिड़काव करवाएं।
अपने खानपान पर दें ध्यान
बीमारी कोई भी हो, ये उस समय अपना ज्यादा असर दिखाती है जब हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। इसलिए आप शरीर की इम्यूनिटी को मजबूत रखने पर ध्यान दीजिए। आप पौष्टिक आहारों का सेवन कीजिए। आपके आहार में ताजे फल और सब्जियों की मात्रा ज्यादा होनी चाहिए। इसके साथ-साथ आप पानी भी भरपूर मात्रा में पिएं।
 

सम्बंधित ख़बरें