महाराष्ट्र सहित समूचे दक्षिण भारत में नारियल पूर्णिमा का त्योहार मनाया  जाता है 

महाराष्ट्र सहित समूचे दक्षिण भारत में नारियल पूर्णिमा का त्योहार मनाया  जाता है 

भोपाल [ महामीडिया] उत्तर भारत में रक्षा बंधन वाले दिन अर्थात श्रावण माह की पूर्णिमा को राखी का त्योहार मनाया जाता है, जबकि दक्षिण भारत में समुद्री क्षेत्रों में नारियल पूर्णिमा का त्योहार मनाया जाता है। इसे नारली पूर्णिमा  भी कहते हैं। यह त्योहार कई जगह श्रावण मास के द्वितीय के दिन से ही प्रारंभ होकर पूर्णिमा के दिन समाप्त होता है। 22 अगस्त 2021 को पूर्णिमा है।महाराष्ट्र सहित समूचे दक्षिण भारत में और पश्चिमी घाट सहित सभी समुद्री क्षेत्रों में हिन्दू पंचांग के अनुसार श्रावण पूर्णिमा को नारियल पूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन रक्षा सूत्र बांधने के अलावा समुद्र देवता की पूजा की जाती है। नारियल पूर्णिमा खासकर सभी मछुआरों का त्योहार होता है। मछुआरे भी मछली पकड़ने की शुरुआत इसी दिन से भगवान इंद्र और वरुण की पूजा करने के बाद करते हैं। यह इस दिन वर्षा के देवता इंद्र और समुद्र के देवता वरुण देव की पूजा की जाती है।

सम्बंधित ख़बरें